सोमवार, 10 अक्तूबर 2016

औरत....

दिन के उठने से कई घंटों पहले....
अपना सूरज उगा लेती हो 
और देर रात तक.....
इन तारों को बुहारती रहती हो

ज़िन्दगी.......
तुम भी "औरत"  हुए जा रही हो

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...