मंगलवार, 9 अगस्त 2016

बूंदें....

बारिश की बूंदें... "on "होते ही
हर चैनल पर इश्क़ बज उठता है ....
अरे ! मैं "fm radio " की बात नहीं कर रही ...
आपकी
और
अपनी बातें बतिया रही हूँ ...
Enjoy .... happy rainy weekend .... ☺☺☺☺☺

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...