Follow by Email

बुधवार, 31 अगस्त 2016

शब्द.....

चीखते नहीं मेरे शब्द
बस .....गुनगुना देते हैं तुम्हें
सच कहा तुमने......" सयाने " हो गए हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें