रविवार, 14 अगस्त 2016

बंजारन....

मेरा पता ...."ज्यादातर तुम "

कभी कभार ........
"बंजारन"हो जाना भी सुकून देता है
तब खोजती हूँ ...
खुद को ...कल्पना वाले .....पुराने पते पर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...