बुधवार, 31 अगस्त 2016

सीमा....

इक बात कहूँ...?

मेरे लिए सीमाएं बनाना ......
और फिर....... खुद अपनी तोड़ देना
कोई ......."तुमसे"  सीखे

और ......सीमाएं लांघना....... "सिर्फ मुझसे "

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...