रविवार, 14 अगस्त 2016

तस्वीर.....

तस्वीर नहीं....
मेरा दर्द खींच पाओ .... तो कुछ बात बने

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिपि

दुःख .... छोटी लिपि का अत्यंत बड़ा शब्द