रविवार, 14 अगस्त 2016

अधूरी नज़्म....

अच्छा हुआ ....तुम मेरे लिए अधूरी नज़्म ही रहे
देखो ..........अब तलक रुके हुए हो जहन में
ये अलग बात है कि ......
रोज़ इक कहानी लिखकर आज़ाद कर देती हूँ ....
खुद को।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...