Follow by Email

रविवार, 14 अगस्त 2016

भाषा.....

आइये रूह की भाषा बोलें .....
देह ..... स्नेह की तो हर कोई बोल सकता है

मायने बदलने होंगे .... मेरे भी ... अपने भी

(सादगी बेजोड़ है ...नजरिया भी बेजोड़ ही होना चाहिए)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें