सोमवार, 18 जुलाई 2016

मन्नत.....

कभी तुमको .....अपने शब्दों में पिरो देना
कभी अपने शब्दों को ....तुममें कस देना

अपनी "इबादत" पर ...."मन्नत "बाँधने जैसा है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...