सोमवार, 18 जुलाई 2016

नजरिया......

कुछ गिरहें खुली रह जाएँ...... तो उलझ जाती हैं
कुछ गिरहें बंधी रह जाएँ .......तो सुलझ जाती हैं
ये शिकायत नहीं .....
शिकवा भी नहीं
नजरिया है....... मेरा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यात्रा

प्रेम सबसे कम समय में तय की हुई सबसे लंबी दूरी है... यात्रा भी मैं ... यात्री भी मैं