बुधवार, 8 जून 2016

ग़ज़ल....

बस .....
कुछ शब्द ही हैं ....
जो बिना शर्त
मुझे ....हूबहू लिख देते हैं
तुम्हारी ख्वाइशों पर
बाक़ी सब तो .....
फरमाइशी ग़ज़ल सा है
मेरे लिए

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...