Follow by Email

रविवार, 12 जून 2016

किस्म....

अपनी किस्म का सिर्फ एक हूँ ....
फिर भी पूछता फिरता हूँ .... 
क्या मैं सही हूँ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें