सोमवार, 30 मई 2016

Cheers !

मैं ....
अपनी ख्वाइशों का प्याला
रोज़ ...
दो ही चीज़ों से भरती रहूंगी
कभी जीत से ...
कभी उस जीत को पाने की रीत से
वो क्या कहते हैं.... हर जश्न के बाद .... Cheers !

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...