रविवार, 15 मई 2016

वजह और बहाने ......

वजह तय करने ...
और
बहाने तय करने के बीच में ही ....
कई बार हमारे "ख्वाब "मर जाते हैं
क्यों ...?
कैसे ....?
और
क्यों नहीं....?
सिर्फ ये तीनों तय करते हैं कि ....
हमारे ख्वाबों की उम्र  क्या होगी ?

सोच के देखिये आप ....
सकारात्मक कश्ती में बैठे हों
या
  नकारात्मक हवाई जहाज में

वजह तय कीजिये....
बहाने अपने आप तय हो जायेंगे

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...