रविवार, 8 मई 2016

मैं.....

मेरे जेहन की उस इक टुकड़ा धूप को खुरच के देखो ....
तुम्हें मध्यम आंच में रौशनी परोसता चाँद ही नज़र आएगा
थोड़ी अलग हूँ ना मैं ?
भूल गए ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...