रविवार, 8 मई 2016

अजनबी....

न जाने कितनी बार.....
दोहराये जा चुके हो तुम .....मुझमें
  फिर भी .....
हर बार जरा सा ......
अजनबी ही रह जाते हो
हूबहू .....मेरे शब्दों की तरह

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...