रविवार, 8 मई 2016

विश्वास.....

कभी "विश्वास" को ध्यान से सुनियेगा .....
"विश्व "भी चीखता नज़र आएगा
"स्व" भी बोलता नज़र आएगा
ये हम पर निर्भर है कि ...
हमारी "आस "को किसकी गूँज ज्यादा भाती है
किसकी आवाज लौट लौट कर आती है
विश्वास तब बोलता नहीं
सिर्फ कर के दिखाता है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...