Follow by Email

रविवार, 8 मई 2016

अनुगूंज ...

मूक रहने में 
और 
दो टूक कहने में
सिर्फ इक ही अनुगूंज होगी
मेरे वजूद की

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें