Follow by Email

रविवार, 8 मई 2016

कहानी......

खुद से बातें करती हूँ .... 
तो कहते हो .....कविता सी हूँ 
मेरे लिए 
तब
तुमसे बतियाना तो 
कहानी ही हुआ ना मेरे लिए ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें