सोमवार, 30 मई 2016

हद ....



प्रेम की कोई हद नहीं होती
इसीलिए तो सब बंधते चले जाते हैं
अगर कोई होती
तो सब उड़ते चले जाते
फिर प्रेम कहाँ.....
हद कहाँ......
बेहद कहाँ .....
कोई कहाँ .....
कोई कहाँ ......
ये बेहद वाली परिधि में प्रेम सदियों से पनप रहा है
बिना कहे
बिना सुने
बिना देखे
बिना दिखे
हंसी ख़ुशी
हौले हौले
बड़े इत्मीनान से बस सदियों से धड़क रहा है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...