रविवार, 8 मई 2016

अधखिलेे फूल ....

किसी और के
कहने भर से
अपने ख्वाबों के
अधखिलेे फूल
तोड़ देना.....
इससे बेहतर है
मैं उन्हें खुद पर
लादे रखना पसंद करूंगी ....
पूरा खिलने तक
खुद पर
सूख जाने तक

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...