सोमवार, 30 मई 2016

खामोश लम्हे .....

कुछ खामोश लम्हे .....
मैंने अपने पहलु में
सी लिए हैं  
डरती हूँ ....
उड़ न जाए
ये खामोश लम्हे .....
कहीं
दिख न जाएँ
ये खामोश लम्हे .....
मुझसे तो
कुछ कहते नहीं
क्या पता
तुमसे ही
सब कह जाए
ये खामोश लम्हे ......

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...