सोमवार, 30 मई 2016

खामोश लम्हे .....

कुछ खामोश लम्हे .....
मैंने अपने पहलु में
सी लिए हैं  
डरती हूँ ....
उड़ न जाए
ये खामोश लम्हे .....
कहीं
दिख न जाएँ
ये खामोश लम्हे .....
मुझसे तो
कुछ कहते नहीं
क्या पता
तुमसे ही
सब कह जाए
ये खामोश लम्हे ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...