रविवार, 8 मई 2016

छू के देखिये .... अलग हैं

अकेलापन
तन्हाई
और
एकांत
सब इक ही साँचे में ढले लगते हैं 
छू के देखिये .... अलग हैं
अकेलापन ......मिलता है .......अपनों से
तन्हाई ........होती है ......अपनी बुनी हुई
और
एकांत .....चाहिए होता है ....अपने लिए

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...