रविवार, 8 मई 2016

छू के देखिये .... अलग हैं

अकेलापन
तन्हाई
और
एकांत
सब इक ही साँचे में ढले लगते हैं 
छू के देखिये .... अलग हैं
अकेलापन ......मिलता है .......अपनों से
तन्हाई ........होती है ......अपनी बुनी हुई
और
एकांत .....चाहिए होता है ....अपने लिए

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...