शुक्रवार, 13 मई 2016

आसान है....

इस मायूस रात के ......
सैकड़ों सितारों से बातें करने से बेहतर है
उस उजले दिन के ...
सूरज की आँख में आँख डाल कर देखना
करके देखिये ....ज्यादा आसान है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

पूर्ण विराम

रुकने के लिए मेरे पास पूर्ण विराम भी था पर तुम ज्यादा पूर्ण थे....मेरे विराम के लिए।