मंगलवार, 10 मई 2016

"ख्वाब" .....

तुम..... मेरी ज़िन्दगी का वो बेहतरीन हिस्सा हो
जो ....मिला
बिछड़ा
रुका
चला
पर ......आज तलक थका नहीं
इसीलिए तो कहती हूँ ....
बस इक "ख्वाब" से हो

1 टिप्पणी:

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...