मंगलवार, 10 मई 2016

"ख्वाब" .....

तुम..... मेरी ज़िन्दगी का वो बेहतरीन हिस्सा हो
जो ....मिला
बिछड़ा
रुका
चला
पर ......आज तलक थका नहीं
इसीलिए तो कहती हूँ ....
बस इक "ख्वाब" से हो

1 टिप्पणी:

  1. वाह बहुत खूब ......इसीलिए तो कहता हूँ बेहतरीन हो आप

    उत्तर देंहटाएं

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...