मंगलवार, 10 मई 2016

"ख्वाब" .....

तुम..... मेरी ज़िन्दगी का वो बेहतरीन हिस्सा हो
जो ....मिला
बिछड़ा
रुका
चला
पर ......आज तलक थका नहीं
इसीलिए तो कहती हूँ ....
बस इक "ख्वाब" से हो

1 टिप्पणी:

  1. वाह बहुत खूब ......इसीलिए तो कहता हूँ बेहतरीन हो आप

    उत्तर देंहटाएं

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...