बुधवार, 16 मार्च 2016

क्या कर सकते हो मेरे लिए ?

क्या कर सकते हो मेरे लिए ?

... अच्छा उस दिन जो ....
      बारिश हुई थी मुझपर ...
     उसकी कुछ बूंदें ......
     अब तलक गीली हैं मुझमें ....
     बस ......रुकी भर हैं मुझमें .....
      क्या उस पर .....
     अपना नाम लिख सकते हो ?

   ठीक वैसे ही ......
   जैसे मैंने .....अभी अभी तुम्हारा नाम ....
  इन फूलों पर लिखा है .... अपनी ख़ुश्बू से

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...