बुधवार, 30 मार्च 2016

यादों के नुपुर....


कुछ यादों के नुपुर
मैंने
अपनी साँसों में
पिरो लिए हैं
जो थिरकते रहते है मुझमें
दिन ….. रात
हर पल…… हर लम्हा
मध्यम …….मध्यम
इनकी झंकार
मुझे
अकेला
होने नहीं देती
कुछ था अपना …….कभी
आज भी
उसे खोने नहीं देती

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

सादगी

सादी सी बात सादगी से कहो न यार ....   जाने क्या क्या मिला रहे ..... फूल पत्ते   मौसम बहार सूरज चाँद रेत समंदर दिल दिमाग स...