रविवार, 7 फ़रवरी 2016

सुनो जरा......

भला भला सा लगता है  
 बड़ा खरा सा लगता है  
 इक लम्बी ख़ामोशी बाद 
 अटके - अटके पल के बाद
  " नाम "  जरा सा ले लेना  
  बस ...
"सुनो जरा" 
 ये कह देना  
 कोसा - कोसा लगता है  
 बहुत भरोसा लगता है 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

बिम्ब

एक शब्द लिखकर सैंकड़ों बिम्ब देखोगे? लिखो.... "प्रेम" मैं चुप थी पर चुप्पी कभी नहीं थी मेरे पास अब बस चुटकी सा दिन बचा है । अप...