Follow by Email

शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

मछलियां.......



दिल ग़मों से इतना लबालब है
ख्वाइशों की मछलियां भी अब उड़ना चाहती हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें