रविवार, 7 फ़रवरी 2016

भरम.....

रेत हो जाने में क्या शर्म है ......
हाँ....... हर वक़्त....
पत्थर बने रहना ....
इक फिसलता भरम है

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...