शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

वक़्त....



वक़्त से , ऐसी भी क्या मुहब्बत रखना 
जाने वाले से,  क्या फिर शिद्दत रखना  
खुद मुठ्ठी से फिसल रहा ,जो रेत बनकर 
ऐसे से , इश्क की क्या फितरत रखना

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...