Follow by Email

शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

हम....तुम

असमानी हर्फ़..... तुम 
बेहिसाब लफ्ज़ ....हम 
एहसास जुगनू ......तुम 
कलम रोशनाई .....हम  
इबारतें ......तमाम रात 
लिखते रहे तुम पर  
बांवरा चाँद .....तुम 
ठहरते ख्वाब  ...हम      

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें