बुधवार, 3 फ़रवरी 2016

कलम

द्वार खोल के .....मन बहा देना
ज़ार ज़ार सबको .....सच बता देना
मलंग ऐसा बोलो कौन ?
मैं .....और...... मेरी कलम
और  भला होगा कौन ?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शुभ रात

सच कहूँ ... तुम्हारे पास मेरे सुकून का बक्सा है। उसमें तुम्हारा कुछ भी नहीं ... बस  कल्पना का सामान भरा हुआ है।कुछ तस्वीरें ,कुछ फिक्र,कुछ प...