शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

प्रेम.....

तुम्हारा नंगे पाँव 
साहिल को छूना  
और 
इक जोड़ा 
पैरों की मोहर 
मेरे सेहरा 
की तरफ चली आना

ये प्रेम तो नहीं हो सकता …है ना ?

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...