शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

बुलंदी......

परिंदो से दोस्ती , ख्वाब का शजर हो 
सूरज लक्ष्य , आसमान पर नज़र हो  
बुलंदी पूछती फिरेगी तेरा पता  
ढेर सा जतन , बस थोडा सा सबर हो  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...