शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

बुलंदी......

परिंदो से दोस्ती , ख्वाब का शजर हो 
सूरज लक्ष्य , आसमान पर नज़र हो  
बुलंदी पूछती फिरेगी तेरा पता  
ढेर सा जतन , बस थोडा सा सबर हो  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...