शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

हसरतें .....

हसरतें ..... 
आज भी पूछती हैं ....तुम्हारे घर का पता  बेबाक .....हो गए हैं 
हाथों की लकीरें दिखा देते हैं 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

पूर्ण विराम

रुकने के लिए मेरे पास पूर्ण विराम भी था पर तुम ज्यादा पूर्ण थे....मेरे विराम के लिए।