Follow by Email

रविवार, 7 फ़रवरी 2016

माँ.....

  मेरी सलामती "गांठों "में बाँध लेती है
"माँ" हर फ़िक्र आँचल में बाँध लेती है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें