शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2016

सफ़र.....

ताउम्र कलम को मशाल सा उठाये रखना
कल्पना की रोशनाई में डुबाये रखना
फ़िज़ूल हवा नहीं , इक विचार बन कर बहना
आखर से रचना का सफ़र बनाये रखना

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अद्धभुत हूँ मैं

खूबसूरत नहीं हूँ... मैं    हाँ ....अद्धभुत जरूर हूँ   ये सच है कि नैन नक्श के खांचे में कुछ कम रह जाती हूँ हर बार   और जानबूझ करआंकड़े टा...