शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

पहलू.....

मुहब्बत की चुनर .....
निखर गयी ममता का आँचल बनके
आज मिले .....हम एक और पहलू से उनके

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैं लिखना नहीं जानती ...

सही कहते हो ...... मैं लिखना नहीं जानती  मैं तो सिर्फ पीना जानती हूँ ... कुछ समुन्दर खारा सा  कुछ अँधेरा उतारा सा अपने शब्दों के straw से क...