शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

दोस्ती.....

दोस्तों का कारवां
बढ़ता रहे
नया हो या पुराना
हर दोस्त सलामत रहे
दूर हो या पास
संदेसा मेरा पहुँचता रहे
सारी कायनात में सिर्फ
हम आपस में मिले
उस पल को
हमारी दोस्ती का सलाम रहे

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...