शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

तन्हाई......

लगा न था
यूँ दूर निकल जायेंगे
क़दमों के निशान
खुद बखुद
पुछते चले जायेंगे
रिश्ते हों या यादें
दस्तक दें भी तो कैसे ?
खुद भटक रहा हूँ
एक बैरंग लिफाफा जैसे

लगा न था
यूँ दूर निकल जायेंगे
जीतते रहे इश्क में
मौत से हार जायेंगे
अब भी लुटने
की ख्वाइश दबाये
कब्र में लेटे हैं
ऐसे में क्या
मांग लेंगे वो हमसे?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...