Follow by Email

शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

अदा.....

बड़ी ख़ुशी की राह तकते .....
इक हंसी को खो देना 
 और 
जब हंसी हथेली में धर दूं .....,
 फफक के रो देना  
" ज़िन्दगी "
तेरी इस अदा पे 
दिल वार दूं 
आज कुछ लम्हे 
तेरी जुल्फों से तोड़ूँ
कागज़ पे उतार दूं 

कल्पना पाण्डेय 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें