शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

दो आईने.....

मेरे पास .....
दो आईने हैं .....
 इक वो .....जिसे "मैं "देखती हूँ  ....
पर कभी कभार ......दिखती हूँ 
और 
इक तुम .... जिसमें "सिर्फ मैं" दिखती हूँ  
हर बार .....जो मैं दिखना चाहती हूँ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मैं लिखना नहीं जानती ...

सही कहते हो ...... मैं लिखना नहीं जानती  मैं तो सिर्फ पीना जानती हूँ ... कुछ समुन्दर खारा सा  कुछ अँधेरा उतारा सा अपने शब्दों के straw से क...