शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2016

खत

मुद्दतें हो गयी ......इश्क का आंखरी खत पाकर
आज भी ........गीले हैं वो अलफ़ाज़
संग मेरे उम्र बिताकर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

हमेशा....

तुमने हर बार मुझे कम दिया और मैंने हर बार उससे भी कम तुमसे लिया। ना तुम कभी ख़ाली हुए .... ना मैं कभी पूरी हुई। हम यूँ ही बने रहें....हमेश...