शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

तुम.....

रेत ही रेत हैं हम 
और तुम 
आकाश कहते हो  
छुआ भी नहीं 
और तुम 
आभास कहते हो  

ये रास्ते 
किधर भी नहीं जाते  
और तुम 
हो की इन्हे 
उजास कहते हो  

इक हंसी 
ओढ़े बैठे तो हैं लब पर 
 और तुम 
इसे ज़बरदस्त 
लिबास कहते हो    


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...