शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

सफ़र......

सफ़र......

आइना मेरा दोस्त
परछाई सखी है 
वजूद संग आत्मा भी
सहेज कर रखी है
मैं तनहा कहाँ हूँ ?
" सफ़र" में हूँ
मेरा जरूरी सामान 
बस यही है 

कल्पना पाण्डेय 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...