Follow by Email

शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

शजर ....

मुझमें .....कुछ भी नया नहीं 
सब पुराना है  
यादों वादों का सफ़र ....
ठिठका पड़ा है  
तुम्हारे लम्हों का शजर ....
कुम्हला पड़ा है   
गौर से देखो .....
मैं ....
आज भी वही ....
तुम्हारा ....
रुका हुआ शहर हूँ  
अब तक तुम्हें ....
जाते हुए ...
देख रहा प्रहर हूँ 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें