Follow by Email

शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

लफ्ज़.....

तुम्हारे नाम के .......वो मंज़र ......याद रहते हैं  
जो लफ्ज़ ........इश्क में खर्चे ...आबाद रहते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें