शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

गुल्लक.....

रिश्तों की गुल्लक में चंद सिक्के
वफाओं के और कुछ एक हंसी के
डाल कर खूब हिलाया कीजिये
बस यूँ ही .....मालामाल हो जाइये

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कनेर

"कनेर"  तुम मुझे इसलिए भी पसंद हो कि तुम गुलाब नहीं हो.... तुम्हारे पास वो अटकी हुई गुलमोहर की टूटी पंखुड़ी मैं हूँ... तुम्हें दूर ...