Follow by Email

शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

आंसू....

मेरे आंसू भी तेरे काँधे पे जाने क्या पाते है
मुझसे तो रूठे भीगे निकलते हैं
तुझे छूते ही हंसकर सूख जाते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें