शनिवार, 13 फ़रवरी 2016

आंसू....

मेरे आंसू भी तेरे काँधे पे जाने क्या पाते है
मुझसे तो रूठे भीगे निकलते हैं
तुझे छूते ही हंसकर सूख जाते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यात्रा

प्रेम सबसे कम समय में तय की हुई सबसे लंबी दूरी है... यात्रा भी मैं ... यात्री भी मैं